उत्तराखंड खाकी को लगा सोशल मीडिया पर फेमस होने का रोग, वर्दी और सरकारी गाड़ियों का जमकर प्रयोग, देखे वीडियो

देहरादून: उत्तराखंड पुलिस को इन दिनों एक अजीबोगरीब खुमार चढ़ा है. ये खुमार सोशल मीडिया पर रील्स और वीडियो बनाकर फॉलोवर्स बढ़ाने का है. आलम ये है कि अब सोशल मीडिया पर फेमस  होने के लिए उत्तराखंड पुलिस के जवान जमकर रील्स बना रहे हैं. उत्तराखंड पुलिस के दरोगा साहेब से लेकर कॉन्स्टेबल और तमाम कर्मचारियों को भी ये रोग लग गया है. रील्स बनाने के लिए पुलिस के ये जवान वर्दी, सरकारी गाड़ियों और ऑफिस का सहारा लेने से भी कोई गुरेज नहीं कर रहे हैं. लाइक और सोशल मीडिया पर फॉलोअर्स बढ़ाने के लिए ऐसे ही उत्तराखंड पुलिस के रोजाना एक से बढ़कर एक वीडियो सामने आ रहे हैं.

आलम यह है कि फिल्मी डायलॉग हो या फिल्मी गाने या फिर अतरंगी म्यूजिक इन सब पर उत्तराखंड पुलिस के जवान से लेकर दरोगा तक खूब रील्स बना रहे हैं गढ़वाल से लेकर कुमाऊं तक कई ऐसे पुलिसकर्मी सोशल मीडिया पर खूब छाए हुए हैं. ऐसा नहीं है कि पुलिसकर्मी सिर्फ गाना और फिल्मी डायलॉग पर ही अपने वीडियो बना रहे हैं कई ऐसे पुलिसकर्मी भी सोशल मीडिया पर आपको मिल जाएंगे, जो सोशल मैसेज या फिर देशभक्ति के गीतों पर अपने बोल मिलाते हुए देखे जा सकते हैं। उत्तराखंड में कई पुलिसकर्मी और कई प्रशासनिक अधिकारी सोशल मीडिया पर खूब चर्चा में रहते हैं। इतना ही नहीं, उत्तराखंड पुलिस के दरोगा तो फिल्मों में भी अपना लोहा मनवा चुके हैं लेकिन सवाल यह खड़ा होता है कि पुलिस की वर्दी में इस तरह से पुलिस नियमावली का उल्लंघन करना कितना सही है। बात अभी सिर्फ चंद पुलिसकर्मियों और दरोगा तक सीमित है अगर यह रोग उत्तराखंड पुलिस के कुछ और जवानों में लग गया तो ड्यूटी का अंदाजा आप बखूबी लगा सकते हैं।

इस पूरे मामले को लेकर पुलिस के अधिकारी भी हैरान है। उनका कहना है कि उनके संज्ञान में कुछ इस तरह के मामले आये है जिसकी वो जाँच करवा रहे है। वही, डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि उत्तराखंड में सोशल मीडिया को लेकर जो निर्देश दिए गए है उसके तहत कोई भी पुलिस कर्मचारी सोशल मीडिया के माध्यम से विभाग और सरकार की छवि को ख़राब नहीं करेगा। लेकिन अगर कोई ऐसा करता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। हालांकि, इन सभी का परीक्षण कराया जायेगा, अगर कोई पॉलिसी का उल्लंघन करेगा तो उसपर कार्यवाही की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.