उत्तराखंड में संस्कृत शिक्षा के लिए एक माह में तैयार होगा ड्राफ्ट

राज्य में संस्कृत शिक्षा की नियमावली तैयार कर विभाग की गतिविधियों को बढ़ाया जायेगा। प्रदेश में संस्कृत शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने संस्कृत शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक ली। इस दौरान राज्य में स्थापित संस्कृत परिषद, संस्कृत आकदमी व संस्कृत निदेशालय की जिम्मेदारियां नियम किए जाने को लेकर मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए। इसके साथ ही संस्कृत विश्वविद्यालय के माध्यम से प्रदेश में संस्कृत शिक्षा के क्षेत्र में शोध कार्यों को बढ़ावा दिया जायेगा।
बैठक के दौरान अधिकारियों को निर्देश दिये कि देश के अन्य राज्यों में संस्कृत शिक्षा के क्षेत्र में किये गये अभिनव कार्यों का अध्ययन कर नई नियमावली तैयार करें। इसके लिए उन्होंने विभाग के उच्च अधिकारियों को तीन सदस्यीय समिति का गठन करने के निर्देश विभागीय सचिव को दिये। उन्होंने कहा कि समिति एक माह के भीतर नई नियमावली का ड्राफ्ट तैयार करेगी, जिसका अध्ययन करने के पश्चात नियमावली को अंतिम रूप दिया जायेगा।
विभागीय मंत्री ने कहा कि संस्कृत के क्षेत्र में शोध कार्यों को बढ़ावा देने की आवश्यकता है, जिसकी जिम्मेदारी उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय को सौंपी जायेगी। विभागीय मंत्री द्वारा अधिकारियों को संस्कृत शिक्षा के अंतर्गत सौ दिनों का टारगेट तय करने के निर्देश दिये गये। जिसके अंतर्गत संस्कृत विद्यालयों में शिक्षण एवं शिक्षणेत्तर गतिविधियों की एकरूपता लाने के लिए शैक्षिक पंचांग लागू करने, राज्य के 13 आदर्श संस्कृत ग्रामों का निर्माण एवं विस्तार करने, ज्योतिष वास्तु, पुरोहित्य प्रशिक्षण केन्द्रों का संचालन करने, अखिल भारतीय संस्कृत शोध सम्मेलन आयोजित करने, संस्कृत छात्र प्रतियोगिता सहित गीता मास महोत्सव, कालिदास सम्पात महोत्सव, अखिल भारतीय कवि सम्मेलन आदि कार्यक्रम शामिल करने को कहा गया। डॉ रावत ने अधिकारियों को राष्ट्रीय संस्कृत शिक्षा संस्थान भारत सरकार द्वारा राज्यों को दी जाने वाली विभिन्न परियोजनाओं एवं वित्तीय सहायता के लिए विस्तृत कार्ययोजना तैयार करने को कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.