हिजाब V/S भगवा विवाद: कर्नाटक में तीन दिनों के लिए हाई स्कूल और कॉलेज बंद

बजाए बढ़ता ही जा रहा है। एक तरफ मुस्लिम छात्राएं स्कूल-कॉलेज में हिजाब पहन अपना विरोध दर्ज करवा रही हैं तो वहीं दूसरी तरफ कई छात्र भगवा स्कार्फ पहन अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं। मामला हाई कोर्ट तक पहुंच गया है। बावजूद इसके मंगलवार को भी मांड्या के एक कॉलेज में हिजाब पहनकर कॉलेज आ रही एक छात्रा के खिलाफ विरोध वीडियो सामने आया है, जिसमें भगवा स्कार्फ पहने कुछ लोग हिजाब पहने लड़की के सामने जय श्री राम के नारे लगा रहे हैं। जिसके बाद विवाद के बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने राज्य में अगले तीन दिनों के लिए सभी हाई स्कूल और कॉलेज बंद करने का आदेश दिया है।

मंगलवार को हुए विवाद का वीडियो सोशल मीडिय पर खूब वायरल हो रहा है। वीडियो मांड्या के एक कॉलेज का है जहां कॉलेज पहुंची छात्रा को भगवा गमछा पहने और जय श्री राम के नारे लगाने वाले लड़कों के एक झुंड ने घेर लिया और उसके सामने जमकर जय श्री राम के नारे लगाए। जिसके बाद लड़की ने भी जवाब में आल्लाहू अकबर कहा। कॉलेज परिसर के बाहर छात्रों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए कॉलेज के अधिकारी भी संघर्ष करते नजर आ रहे हैं। वहीं यह मामला जो अब तक प्रदर्शन, नारेबाजी तक सीमित था वो मारपीट तक पहुंच गया है।

इस दौरान प्रदर्शनकारी एक छात्र ने कहा, ‘उन पर हिजाब पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, लेकिन उनमें से कुछ हिजाब पहनकर कक्षा में आए। अगर वे हिजाब पहने हुए हैं, तो हम भी भगवा गमछा पहनेंगे।’ जबकि इस मसले पर मुस्लिम छात्राओं का कहना है कि वे पहले से हिजाब पहनकर पढ़ाई करती आ रही हैं और पहले कभी इस पर कोई विवाद नहीं था। जबकि दूसरा तबका मानता है कि शिक्षा का यूनिफॉर्म से कोई लेना-देना नहीं हैऔर सभी को स्कूल में एक समान ही रहना चाहिए।

क्या है हिजाब v/s भगवा मामला
हिजाब विवाद के बीच हाल ही में कर्नाटक सरकार ने राज्य में Karnataka Education Act-1983 की धारा 133 लागू कर दी है। इस वजह से अब सभी स्कूल-कॉलेज में यूनिफॉर्म को अनिवार्य कर दिया गया है। इसके तहत सरकारी स्कूल और कॉलेज में तय यूनिफॉर्म पहनी जाएगी। प्राइवेट स्कूल भी अपनी खुद की एक यूनिफॉर्म चुन सकते हैं। बता दें कि ये विवाद पिछले महीने जनवरी में तब शुरू हुआ था, जब उडुपी के एक सरकारी कॉलेज में 6 छात्राओं ने हिजाब पहनकर कॉलेज में आई। विवाद इस बात को लेकर था कि कॉलेज प्रशासन ने छात्राओं को हिजाब पहनने के लिए मना किया था, लेकिन वे फिर भी पहनकर आई। उस विवाद के बाद से ही दूसरे कॉलेजों में भी हिजाब को लेकर बवाल शुरू हो गया, जिसके चलते कई जगहों पर पढ़ाई प्रभावित हो रही है और मुद्दा तूल पकड़ता जा रहा है। फिलहाल अब सबकी नजरें हाई कोर्ट के फैसले पर टिकी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.