बारिश का कहर, कहीं भूस्खलन तो कहीं सड़कें नदियों में तब्दील, अटकी लोगों की सांसें

संदीप कुमार

चमोली। पहाड़ों में हो रही बारिश से यहां दुश्वारियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। भारी बारिश के कारण जन जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है। उधर, चमोली में बारिश आफत बनकर बरस रही है। बद्रीनाथ ऋषिकेश राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहाड़ी से मलबा पत्थर आने से बदहाल बना हुआ है। बदरीनाथ धाम यात्रा और हेमकुंड साहिब की यात्रा पर आए यात्री जान जोखिम में डालकर यात्रा कर रहे हैं। गोचर से लेकर लामबगड़ तक बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग सात से अधिक स्थानों पर सड़क खस्ताहाल है। मलबा और पानी सड़क पर इस तरह से बह रहा है मानो नदियां सड़क पर बह रही हो। कर्णप्रयाग-पुरसाडी के पास गांधीनगर में तो हाइवे का एक हिस्सा टूट कर पिण्डर नदी में बह जाने से सड़क आधे से भी कम बची हुई है। जिससे इस स्थान पर सिर्फ छोटी ही गाड़ियां आवाजाही कर पा रही हैं। वहीं हाइवे पर जगह जगह ट्रक खड़े होने के कारण जाम भी लग रहा है। बदरीनाथ नेशनल हाईवे लामबगड और खचरा नाला, पागल नाला सड़क मार्ग पर हर पल खतरा बना हुआ है।

भर-भराकर गिर गया सड़क का हिस्सा

उधर, बीते दिनों से जारी बारिश के कारण गोपेश्वर-पोखरी मोटर मार्ग सोनला में रात करीब दो बजे सड़क का हिस्सा टूटकर नीचे मकानों के पास गिर गया। जैसे ही लोगों को सड़क के भरभराकर गिरने की आवाज सुनाई दी, अफरा-तफरी मच गई। लोगों ने आनन-फानन में घरों से बहार निकलकर अपनी जान बचाई। वहीं लोगो ने ऑल वेदर सड़क योजना का कार्य कर रही कम्पनी पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.