कुमाऊं में बढ़ा स्क्रब टाइफस का प्रकोप, जानें इसके लक्षण और बचाव के तरीके

हल्द्वानी: डेंगू, कालाजार बीमारी के कई दशक के बाद अब कुमाऊं मंडल में नई बीमारी स्क्रब टाइफस वायरस ने दस्तक दे दी है. इस बीमारी के आने के बाद सुशीला तिवारी अस्पताल पूरी तरह से अलर्ट पर है. अस्पताल में इस वायरस के 7 मरीज भर्ती हैं. अस्पताल प्रशासन के मुताबिक पहाड़ के अलावा उधम सिंह नगर से इस बीमारी के मरीज अस्पताल में पहुंचे हैं. जहां जांच के दौरान इनकी पुष्टि हुई है. इस महीने अभी तक सुशीला तिवारी अस्पताल में स्क्रब टाइफस के 34 मामले सामने आ चुके हैं.

ये हैं बीमारी के लक्षण

बुखार और ठंड लगना

बुखार के बाद सिर व शरीर में दर्द

मांसपेशियों में दर्द होना

स्क्रब टाइफस से बचने के तरीके

स्क्रब टाइफस से बचने के लिए सफाई का विशेष ध्यान रखें. घर और आसपास के वातावरण को साफ रखें. घर और आसपास कीटनाशक दवा का छिड़काव करें. मरीजों को डॉक्सीसाइक्लिन और एजिथ्रोमाइसिन दवा दी जाती है. स्क्रब टाइफस शुरुआत में आम बुखार की तरह होता है, लेकिन यह सीधे किडनी और लीवर पर अटैक करता है. यही कारण है कि मरीजों की मौत हो जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.