Punjab Meeting Elections: पंजाब में शिअद ने ‘करीबियों’ पर लगाया बड़ा दांव, चुनावी मैदान में नजर आएंगे ये चेहरे

[ad_1]

चंडीगढ़. पंजाब के सियासी अखाड़े में शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) ने अपने उम्मीदवारों (Candidates) का ऐलान करीब महीने पहले करना शुरू कर दिया था. अब तक शिअद और बसपा (SAD and BSP) के गठजोड़ में शिअद अपने कोटे के 97 में से 93 उम्मीदवारों की घोषणा कर चुका है. यहां दिलचस्प बात यह है कि इनमें से एक चौथाई से ज्यादा 21 उम्मीदवार राजनीतिक परिवारों से संबंध रखते हैं. लंबी से प्रकाश बादल (Parkash Badal) चुनाव लड़ते हैं तो 6 उम्मीदवार बादल परिवार के नजदीकी रिश्तेदारों के ही होंगे. पार्टी के सूत्रों का कहना है कि शिअद को पूरा भरोसा है कि यह सभी उम्मीदवार सत्ता वापसी में अहम भूमिका निभाएंगे. इसके अलावा पार्टी ने नए चेहरों पर भी दांव लगाया है.

ये हैं बादल परिवार के रिश्तेदार
दि ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक बादल वंशवाद की राजनीति के अखाड़े का नेतृत्व करते हैं. पांच बार के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के लंबी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की संभावना है. उनके बेटे और पार्टी अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल जलालाबाद से चुनाव लड़ रहे हैं. सुखबीर के बहनोई बिक्रम सिंह मजीठिया मजीठा से पार्टी के उम्मीदवार हैं. प्रकाश सिंह बादल के दामाद आदेश प्रताप कैरों पट्टी से पार्टी के उम्मीदवार हैं. बादल परिवार के अन्य रिश्तेदारों में जगमीत बराड़ और जनमेजा सिंह सेखों शामिल हैं.

यह भी पढ़ें: ‘गुरु’ के आगे नतमस्तक चन्नी सरकार! दबाव में पलट चुकी है ये फैसले

पिता और पुत्रों को भी मिले हैं टिकट
पूर्व सांसद प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने इस बार राज्य की राजनीति में कदम रखा है और उन्हें पटियाला के घनौर से पार्टी ने प्रत्याशी घोषित किया है. उनके बेटे हरिंदरपाल सिंह चंदूमाजरा सनौर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. पूर्व मंत्री तोता सिंह और उनके बेटे बरजिंदर सिंह माखन बराड़ क्रमश: धर्मकोट और मोगा सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं. सरदुलगढ़ से राज्यसभा सांसद बलविंदर सिंह भुंदड़ ने अपने बेटे दिलराज सिंह भुंदड़ को मैदान में उतारा है. डेरा बाबा नानक से पार्टी के उम्मीदवार पूर्व स्पीकर निर्मल सिंह कहलों के बेटे रवि करण सिंह कहलों हैं. युवा अकाली दल के वरिष्ठ नेता यादविंदर सिंह यदु की पत्नी जसदीप कौर खन्ना सीट से चुनाव लड़ रही हैं.

आसपास की सीटों पर रिश्तेदारों का लड़ना फायदेमंद
मीडिया को दिए एक बयान में शिअद नेता प्रेम सिंह चंदू माजरा ने कहा कि मैं पार्टी की मांग के मुताबिक चुनाव लड़ रहा हूं. मुझे लगता है कि अगर एक परिवार बगल की सीटों से चुनाव लड़ता है तो यह फायदेमंद है. यह राजनीतिक और तार्किक रूप से मदद करता है. एक वरिष्ठ नेता की माने तो एक तिहाई उम्मीदवार युवा और नए चेहरे हैं, लेकिन पार्टी को पारिवारिक उम्मीदवारों की जीत पर पूरा भरोसा है.

टैग: Parkash Singh Badal, Shiromani Akali Dal

.

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published.