UP CHUNAV: पहले चरण में 25% उम्मीदवार दागी, 615 में से 156 पर आपराधिक मुकदमे दर्ज: ADR

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले चरण में सबसे अधिक दागी उम्मीदवार इस बार चुनाव लड़ने जा रहे हैं। यह चौंकाने वाला खुलासा उत्तर प्रदेश इलेक्शन वॉच एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स ने किया है। एडीआर कि रिपोर्ट के मुताबिक सबसे अधिक आपराधिक छवि वाले उम्मीदवार समाजवादी पार्टी से चुनाव लड़ रहे हैं। जिसेक बाद भाजपा फिर कांग्रेस के दागी नेता यूपी चुनाव में दागी नेता चुनाव लड़ रहे हैं।

उत्तर प्रदेश इलेक्शन वॉच एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स ने विधानसभा चुनाव 2022 के पहले चरण में चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों पर दर्ज मामलों की जानकारी दी. लखनऊ में बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया गया कि पहले चरण के लिए 623 में से 615 उम्मीदवारों के शपथ पत्रों का विश्लेषण किया गया है, जो पहले चरण की 58 सीटों पर लड़ रहे हैं। इसमें 615 में से 156 (25 फीसदी) उम्मीदवारों ने खुद पर आपराधिक मामले घोषित किए हैं।

चुनाव सुधारों की वकालत करने वाले समूह ADR के मुताबिक, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 25 प्रतिशत उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले हैं, जिनमें से 12 महिलाओं के खिलाफ अपराध के आरोप हैं और छह पर हत्या का आरोप है। ‘द एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स’ (एडीआर) ने कहा कि उसने राज्य के 11 जिलों में 58 विधानसभा सीटों से राजनीतिक दलों के 615 उम्मीदवारों और निर्दलीय उम्मीदवारों के स्व-हलफनामों का विश्लेषण किया है। इन सीटों पर 10 फरवरी को चुनाव होने हैं।

पहले चरण में कुल 623 उम्मीदवार मैदान में

एडीआर ने कहा कि कुल 623 उम्मीदवार मैदान में हैं और उनमें से आठ के हलफनामों का विश्लेषण नहीं किया जा सका क्योंकि वे स्कैन नहीं किए गए थे या अधूरे थे। उम्मीदवारों की आपराधिक पृष्ठभूमि पर, एडीआर ने कहा, ‘विश्लेषण किए गए 615 उम्मीदवारों में से 156 (25 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं, जबकि 121 (20 प्रतिशत) ने अपने खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले घोषित किए हैं।’

सपा के 28 उम्मीदवारों में से 21 दागी

उसने कहा कि प्रमुख दलों में, समाजवादी पार्टी (सपा) के 28 उम्मीदवारों में से 21 (75 प्रतिशत), राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के 29 उम्मीदवारों में से 17 (59 प्रतिशत), भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 57 उम्मीदवारों में से 29 (51 प्रतिशत), कांग्रेस के 58 उम्मीदवारों में से 21 (36 प्रतिशत), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के 56 उम्मीदवारों में से 19 (34 प्रतिशत) और आम आदमी पार्टी (आप) के 52 उम्मीदवारों में से आठ (15 प्रतिशत) ने अपने हलफनामों में अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं।

सभी दलों में दागी उम्मीदवार

एडीआर ने कहा कि प्रमुख दलों में, सपा के 28 उम्मीदवारों में से 17 (61 प्रतिशत), रालोद के 29 उम्मीदवारों में से 15 (52 प्रतिशत), भाजपा के 57 उम्मीदवारों में से 22 (39 प्रतिशत), कांग्रेस के 58 उम्मीदवारों में से 11 (19 फीसदी), बसपा के 56 उम्मीदवारों में से 16 (29 फीसदी) और आप के 52 उम्मीदवारों में से पांच (10 फीसदी) ने अपने खिलाफ ‘गंभीर आपराधिक मामले’ घोषित किए हैं। समूह के अनुसार, 12 उम्मीदवार ऐसे भी हैं जिन्होंने ‘महिलाओं के खिलाफ अपराध’से संबंधित मामले घोषित किए हैं और उनमें से एक ने बलात्कार (भादंसं की धारा 376) से संबंधित मामल घोषित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.