इंग्लैंड के नंबर से ऑपरेटर SE को देता था धमकियां- पैसे अकेले खाते हैं, हमें भी दीजिए, Video Viral

[ad_1]

हिमांशु नारंग

करनाल. करनाल नगर निगम में भ्रष्टाचार (Corruption in Municipal corporation) का बोल बोला है. ये बात हम नही कह रहे, ये नगर निगम से वायरल हुई तस्वीरें और वीडियो (Video Viral) कह रही हैं, जिसमें एक सुपरिडेंडट इंजीनियर (Superintendent Engineer) का PA दफ्तर में ही पैसे लेता नज़र आ रहा है. ये पैसे ठेकेदार से लिए जा रहे हैं. जिसको लेकर अब बात हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ तक पहुंच चुकी है.

दरअसल करनाल पुलिस ब्लैकमेल करने के मामले में 2 आरोपियों को गिरफ्तार करती है, इसमें एक आरोपी शुभम है, जो स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का कंप्यूटर ऑपरेटर है. नगर निगम में DC रेट पर कार्यरत है. दूसरा इसका साथी साहिल. दोनों आरोपियों को 3 दिन की रिमांड पर लिया हुआ है.

फोन पर देते थे धमकियां

दोनों करनाल के नगर निगम के SE दीपक किंगर को इंग्लैंड के नम्बर से पंजाबी में धमकाते थे. कभी-कभी हरियाणा भाषा मे भी धमकाया, धमकाते हुए कहा कि आप रिश्वत के पैसे अकेले-अकेले खाते हैं, हमें भी दीजिए, वरना हम आपकी वीडियो वायरल कर देंगे. अभी 2 वीडियो सामने आए हैं. जबकि ऐसी 40 से 50 वीडियो बनाए गए हैं. ये दोनों लड़के इसलिए ब्लैकमेल कर रहे थे, क्योंकि ठेकेदार बिल पास करवाने के लिए पैसे देते थे.

अधिकतर बार पैसे SE का PA विकास शर्मा लेता हुआ दिख रहा है. इन्हें इनका हिस्सा नहीं मिल रहा था. फिलहाल करनाल नगर निगम के एसई कार्यालय में रिश्वत के वीडियो वायरल मामले में जिला प्रशासन ने एक्शन लिया है.

कंप्यूटर ऑपरेटर को किया बर्खास्त
स्मार्ट स्मार्ट सिटी के तहत लगे ऑपरेटर साहिल को हटा दिया गया. साथ ही एसई के पीए जो की वीडियो में पैसे लेते हुए नजर आ रहे हैं. उन्हें हटाने के आदेश दिए गए हैं. पूरे मामले की जांच एडीसी को सौंपकर डीसी ने एसई के खिलाफ कार्रवाई के लिए सरकार को पत्र लिखा है. जिसकी जल्द ही रिपोर्ट आएगी पुलिस और प्रशासन की तरफ से चल रही जांच में शामिल होने तो कहा है. रिश्वत लेना और देना दोनों अपराध है. जांच के बाद दोषी पाए जाने पर विभागीय और कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

नगर निगम के SE कार्यालय में रिश्वतखोरी का खेल
प्रथम जांच में नगर निगम के SE कार्यालय में रिश्वतखोरी का खेल चलता था, यह तय हुआ है. DC निशांत कुमार यादव ने कहा कि नगर निगम के एसई दीपक किंगर के पीए जोकि वीडियो में कुछ लोगों से पैसे लेते हुए नजर आ रहे हैं. वीडियो के आधार पर कुछ कर्मचारियों ने उन्हें ब्लैकमेल करने की कोशिश की गई है, जो लोग गिरफ्तार हुए हैं. उनमें एक स्मार्ट सिटी का कंप्यूटर आपरेटर भी है. उसकी सेवाएं तुरंत प्रभाव से टर्मिनेट कर दी गई है, जो अभी पुलिस हिरासत में है जिसका नाम शुभम है.

SE के PA को सेवाएं टर्मिनेट करने का नोटिस
DC ने बताया कि एसई के पीए को भी सेवाएं टर्मिनेट करने का नोटिस दे दिया गया है. अभी तक की जांच में यह तय हुआ है कि एसई कार्यालय रिश्वतखोरी में संलिप्त है. ऐसे में सरकार को उनके खिलाफ कार्रवाई के लिए लिखा गया है. सस्पेंड करने के लिए लिखा गया है. हमें सूचना मिली है कि अभी वह कार्यालय में नहीं है और उनका फोन भी बंद है. पुलिस को जरूरत पड़ी तो उनके खिलाफ क्रिमिनल आपके पास पर्चा भी दर्ज किया जाएगा, क्योंकि रिश्वत लेना और देना दोनों ही अपराध हैं.

पूरे मामले की जांच के लिए एडीसी को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है. आज उनको जांच के आदेश दे दिए गए. बात साफ है करनाल जो कि सीएम मनोहर लाल का विधानसभा क्षेत्र है, वहां पर नगर निगम के दफ्तर में बड़े बड़े अधिकारी इस तरीके से रिश्वत का खेल चलाते हैं. ऐसे में देखना होगा कि सरकार इनके खिलाफ क्या कार्रवाई करती है.

आपके शहर से (करनाल)

टैग: हरियाणा समाचार, करनाल समाचार, वीडियो वायरल

.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.