Large Information: धनबाद में वाहन रिकवरी एजेंट के घर ATS और NIA ने की छापेमारी, जानें क्या है बिहार कनेक्शन?

[ad_1]

रिपोर्ट- संजय गुप्ता

धनबाद. इस वक्त झारखंड के धनबाद जिले से बड़ी खबर आ रही है, जहां एक वाहन रिकवरी एजेंट (Car Restoration Agent) के घर एटीएस (ATS) और एनआईए (NIA) की टीम ने छापेमारी की है. जानकारी के अनुसार धनबाद जिले के भूली ओपी अंतर्गत श्री राम बिहार कॉलोनी और बैंक मोड़ थाना क्षेत्र मटकुरिया में वाहन रिकवरी एजेंट उपेंद्र सिंह के घर बुधवार को एटीएस तथा एनआईए की टीम छापेमारी करने पहुंची. करीब छ्ह घंटे से अधिक देर की इस छापेमारी अभियान में एटीएस और एनआईए को हथियार लेनदेन मामले से जुड़ी कई अहम जानकारी मिली है. छापेमारी के दौरान श्री राम बिहार क्लोनी जहां उपेंद्र सिंह का घर है वहां भी किसी के आने-जाने पर रोक लगा दी गयी. बताया जा रहा कि रिकवरी एजेंट उपेंद्र सिंह का नाम अवैध हथियार के लेनदेन मामले में सामने आया है और इसी मामले की तहकीकात करने आज एटीएस और एनआईए की टीम उपेंद्र के घर पहुंची.

बता दें, छापेमारी के दौरान स्थानीय पुलिस टीम भी एटीएस और एनआईए टीम के साथ. बताया जाता है कि भूली के रहने वाले पंकज सिंह की निशानदेही पर उपेंद्र सिंह घर छापेमारी की गयी. मिली जानकारी के अनुसार नवंबर महीने में एटीएस ने नक्सलियों और आपराधिक गिरोहों को हथियार सप्लाई करने के मामले में तीन लोगों को पकड़ा था. इनमे पुलवामा में तैनात सीआरपीएफ जवान अविनाश कुमार उर्फ चुन्नू जो बिहार के गया का रहने वाला है, इसके साथ ही पटना रहने वाला ऋषि कुमार और मुज्जफरपुर के पंकज कुमार को गिरफ्तार किया गया था. इनकी निशानदेही पर पुलिस ने 450 राउंड जिंदा कारतूस भी बरामद किए थे. साथ इन इन लोगों ने एके 47 जैसे हथियारों की सप्लाई करने की बात भी स्वीकार की थी. गिरफ्तार आरोपियों ने पुलिस को अमन साहू, हरेंद्र यादव, और लल्लू खान को हथियार उपलब्ध कराने की बात बताई थी.

पहले से कई मामलों में आरोपी में है उपेंद्र
बताया जाता है कि मुजफ्फरपुर के रहने वाले गिरफ्तार आरोपी पंकज सिंह धनबाद के भूली में रहकर कोयला और जमीन का कारोबार किया करता था. हथियारों की सप्लाई के संबंध में पंकज सिंह ने ही रिकवरी एजेंट उपेंद्र सिंह के नाम का भी खुलासा किया है, जिसके बाद आज एटीएस और एनआईए की टीम रिकवरी एजेंट के ठिकानों पर छापेमारी करने पहुंची. बता दें कि रिकवरी एजेंट उपेंद्र सिंह हमेशा से ही अपने कारनामों को लेकर विवाद में रहा है. उसके खिलाफ वाहन रिकवरी के नाम पर रंगदारी और मारपीट की शिकायतें पुलिस के पास आती हैं. उन शिकायतों में उपेंद्र सिंह के पास हथियार रहने का जिक्र भी रहा करता है.

जब 2020 में उपेंद्र ने खूब बरसाईं थी गोलियां
जानकारी के अनुसार अक्टूबर 2020 में उपेंद्र सिंह ने दिन दहाड़े पिस्टल से गोलियों बौछार कर दी थी, जिसका सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया था. इस वीडियो में वह लगातार फायरिंग करते नजर आ रहा था. इस दौरान उसकी चाची मीरा देवी के सर, चचेरे भाई पिंटू सिंह के पेट एवं सिंटू सिंह के कान के पास गोली लगी थी. पुलिस ने इस मामले में प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई भी की थी. हालांकि, आज एनआईए और एटीएस की छापेमारी के बाद क्या कुछ खुलासा होता उसके लिए थोड़ा इंतजार करना होगा. एटीएस और एनआईए की टीम ने इस छापेमारी को लेकर मीडिया से भी दूरी बना रखी है, टीम इस मामले में कुछ बताने से मना कर रही है.

आपके शहर से (पटना)

टैग: एटीएस, झारखंड समाचार, एनआईए

.

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published.