Meerut के चोर बाजार सोतीगंज के कबाड़ी हुए बेरोजगार, अब दूसरे कारोबार के लिए लेंगे लोन

[ad_1]

मेरठ. मेरठ (Meerut) के चोर बाजार सोतीगंज (Chor Market Sotiganj) के बेरोजगार कबाड़ी अब सरकार से लोन लेकर दूसरा कारोबार शुरु करने को बेताब है. किसी भी वाहन के पुर्जों के चंद मिनट में अलग करने वाले कबाड़ियों की हालत अब खस्ता है. लिहाजा अब ये दूसरा व्यापार शुरु करना चाहते हैं. इसे देखते हुए अब कबाड़ियों के लिए थाने में स्पेशल लोन मेला आयोजित किया गया है. तीन दशकों से चोरी के वाहन कटान के लिए कुख्यात सोतीगंज का माहौल यू टर्न ले चुका है. इसका अंदाज़ा आप इस बात से भी लगाइए कि वो कबाड़ी जिन्होंने इस चोर बाजार से न जाने कितना काला धन अर्जित किया वो अब लोन लेकर दूसरा व्यापार करने को बेताब हैं.

मेरठ के सदर बाजार थाने में लोन मेला आयोजित हो रहा है. मेरठ के सदर बाजार थाने में 29 दिसम्बर से कबाड़ियों के लिए लोन मेले का आयोजन किया गया है. बेरोजगार हो चुके इन कबाड़ियों को अब सरकार की योजनाओं का सहारा है. लोन मेले के साथ स्वरोजगार कैंप वोकेशनल ट्रेनिंग स्किल और ट्रेनिंग की वर्कशॉप भी लगाई जाएगी.

सोतीगंज के 70 कबाड़ी अब तक जेल में
एएसपी कैंट सूरज राय ने चौकाने वाला खुलासा भी किया. उन्होंने कहा कि जेल जा चुके कबाड़ी हाजी गल्ला का जाल कितना था, इसका अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि उसने एक एक दिन में बीस बीस लाख रुपए का ट्रांजैक्शन बैंकों से किया है. अकेले इसी हाजी गल्ला की अब तक 30 करोड़ की संपत्ति ज़ब्त हो चुकी है. और कुल मिलाकर अब तक 55 करोड़ की संपत्ति कबाड़ियों की जब्त की जा चुकी है. एएसपी सूरज राय ने बताया कि आने वाले दिनों में कैंट एरिया में स्थित हाजी गल्ला की दो हजार वर्ग मीटर जमीन पर पुलिस जब्तीकरण की कार्रवाई करेगी. सूरज राय ने बताया कि सोतीगंज के 70 कबाड़ी अब तक जेल जा चुके हैं.

बाजार में अब अलग-अलग व्यापार के लगे बोर्ड
चोर बाजार के तौर पर देशभर में कुख्यात रहे सोतीगंज का नजारा अब बदला बदला सा है. यहां कई दुकानों के बाहर अलग-अलग व्यापार के बोर्ड भी लगने शुरु हो गए हैं. किसी ने अपनी दुकान के बाहर फुटवेयर का बोर्ड लगवाया है तो किसी ने रेस्टोरेंट चाउमीन इत्यादि बेचने का. जिस बाज़ार में तीन दशकों से सिर्फ वाहन कटान की ही आवाजें आया करती थीं. उस चोर मार्केट में अब दुकानदार चाउमीन बेचते हुए नजर आ रहे हैं. ये बदली हुई बयार लोगों को खास रास आ रही है. लोगों का कहना है कि बेइमानी और काले धन का यही हश्र होता है. क्योंकि पाप का घड़ा एक न एक दिन फूटता जरुर है. सोतीगंज के भी पाप का घड़ा आखिरकार फूट ही गया.

आपके शहर से (मेरठ)

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश

.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.