राज्य भाजपा अध्यक्ष पद के लिए खींचतान

0
265

उत्तराखंड: भाजपा अध्यक्ष पद की ताजपोशी के लिए अब गोलबंदी तेज हो गई है। इस पद के लिए कुछ नाम उभर कर आ रहे हैं। संगठन ही नहीं पार्टी के सांसद विधायक भी इस दौड में बताए जा रहे हैं। आखिर क्या कुछ चल रहा है राज्य भाजपा में इस पर एक रिपोर्ट

उत्तराखंड बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष  की बागडोर संभालने के लिए इन दिनों पार्टी में गोलबंदी तेज हो गई है. अध्यक्ष की रेस में सांसद विधायक के अलावा संघ के नेताओं के नाम निकल कर सामने आ रहे हैं.

चूंकि 2022 के विधानसभा चुनाव वर्तमान में चुने गए प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में होने हैं।  इस लिहाज से यह पद काफी महत्वपूर्ण हो गया है. पार्टी चाहती है कि नीचे से लेकर ऊपर तक रायशुमारी के बाद ही कोई निर्णय हो। प्रदेश अध्यक्ष चुनाव को लेकर एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज चौहान पर्यवेक्षक और अर्जुन राम मेघवाल को सह पर्यवेक्षक बनाया गया है. इसके अलावा संगठन ने राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विनय सहस्रबुद्धे को पार्टी संगठन और संघ के बीच आम राय बनाने की जिम्मेदारी सौंपी है. विनय सहस्त्रबुद्धे 20 तारीख को देहरादून आ रहे हैं जहां वह विधायक को मंत्री और कार्यकर्ताओं की नब्ज को टटोलगें.

भाजपा की सूत्रों की मानें तो इस बार सांसद अजय भट्ट, बलराम पासी, पुष्कर धामी का नाम उछल रहा है।  इनके अलावा एक नाम राजेंद्र भंडारी का भी है, जो वर्तमान में पार्टी के प्रदेश महामंत्री हैं. आरएसएस के प्रचारक रहे भंडारी वर्तमान में काफी अहम भूमिका में हैं. अनुसूचित जाति के चेहरे के तौर पर अल्मोड़ा के सांसद अजय टम्टा का नाम की भी खूब चर्चा है. इसके अलावा त्रिवेंद्र सरकार में मंत्री धन सिंह का नाम खूब उछाला जा रहा है. प्रदेश संगठन नेतृत्व के लिए जातीय क्षेत्रीय  समीकरणों का भी ध्यान रखा जा रहा है। इस आधार पर सांसद अजय भट्ट का नाम पहले स्थान पर है. प्रदेश अध्यक्ष का चयन 25 दिसंबर तक होने की संभावना है.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव में कई नाम सामने आ रहे हैं। लेकिन इस नई ताजपोशी के लिए कई बातों पर गौर किया जा रहा है। लंबे मंथन के साथ संघ की सहमति की भी खासी अहमियत होगी। केंद्र में भाजपा सरकार है और राज्य में  भाजपा  का हर स्तर के चुनाव में बेहतर प्रदर्शन रहा है इस नाते भाजपा अध्यक्ष के पद काफी महत्वपूर्ण हो गया है। जाहिर है पद को लेकर शूरमाओं में खींचतान तो होगी ही

Spread the love

LEAVE A REPLY