Golden Temple Sacrilege: स्वर्ण मंदिर में प्लानिंग के साथ हुई बेअदबी की कोशिश, युवक ने परिसर में तीन बार की थी एंट्री

[ad_1]

चंडीगढ़: अमृतसर दरबार साहिब (Amritsar Darbar Sahib) में हुई बेअदबी (Golden Temple Sacrilege Incident) की कोशिश में युवक की मौत के बाद उसकी शिनाख्त तो नहीं हो पाई है लेकिन इस बात का खुलासा हो गया है कि यह युवक प्लानिंग के साथ घटना को अंजाम देने के लिए वहां पहुंचा था. पुलिस के विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक सीसीटीवी की फुटेज (CCTV footage) के मुताबिक शनिवार को इस युवक दरबार साहिब में तीन बार एंट्री की थी. बेअदबी की घटना को अंजाम देने के लिए तीन प्रयास किए और वह तीसरे प्रयास में रेलिंग पार करने में कामयाब रहा.

Information 18 के संवाददाता के मुताबकि शनिवार को सुबह 8 बजकर 33 मिनट पर जलियांवाला बाग (Jallianwala Bagh) के रास्ते शनि मंदिर होते हुए दरबार साहिब में दाखिल हुआ था. युवक दरबार साहिब में परिक्रमा के पास सुबह 8 बजकर 37 मिनट पर नजर आया था. पुलिस की जानकारी के मुताबिक 11 बजे एंट्री के बाद घटना को अंजाम देने के लिए यह शख्स घंटों तक परिसर में ही रहा. इस घटना को अंजाम देने से पहले यह युवक लगंर हाल के कैमरों में भी कैद हुआ.

दो बार पहले ही कर चुका था कोशिश
दो बार बेअदबी (Guru Granth Sahib Sacrilege Incident) की घटना को अंजाम देने में असफल रहने के बाद वह शाम को दरबार साहिब की परिक्रमा के पास शाम 5 बजकर 45 मिनट पर पहुंचा. उस समय वहां पाठ चल रहा था और मौका पाकर यह युवक रेलिंग फांद कर अंदर जा पहुंचा.

इस घटना से हरकत में आए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के कार्यबल सदस्यों ने उसे पकड़ा. जब उसे एसपीजीसी के कार्यालय ले जाया जा रहा था तब आक्रोशित ‘संगत’ ने उसकी बुरी तरह से पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई.

यह भी पढ़ें- कोविशील्ड वैक्सीन को लेकर अध्ययन में बड़ा खुलासा, जानें टीका लेने के दो महीने बाद एंटीबॉडी का क्या है स्तर?

जानकारी के मुताबिक अब पुलिस उसकी टाइमिंग से यह कैलकुलेट करने की कोशिश कर रही है कि 8 बजकर 33 मिनट पर वह शहर किस स्थान से पहुंचा होगा. रेलवे स्टेशन और शहर के अन्य रास्तों की सीसीटीवी फुटेज भी खंगाली जा रही है.

शहर की हर दुकान के सीसीटीवी कैमरा भी चेक किए जा रहे हैं. अमृतसर के पुलिस आयुक्त सुखचैन सिंह गिल ने रविवार को बताया कि अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ शनिवार रात भारतीय दंड संहिता की धारा-295ए (धार्मिक समूहों में द्वेष उत्पन्न करना), धारा-307 (हत्या की कोशिश) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है.

उन्होंने बताया कि स्वर्ण मंदिर में लगे सभी कैमरों की तस्वीर प्राप्त कर ली गई है और आरोपी के बारे में सूचना एकत्र करने के लिए उनकी जांच की जा रही है. आरोपी के पास से मोबाइल फोन,पर्स, पहचान पत्र या आधार कार्ड नहीं मिला है. पुलिस अब उसके फिंगर प्रिंट से उसके आधार कार्ड का डाटा पता लगाने में जुटी है.

टैग: चंडीगढ़, Guru Granth Sahib, पंजाब खबर

.

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published.