स्वर्ण मंदिर में बेअदबी के आरोप में मारे गए व्यक्ति का अंतिम संस्कार, अब तक नहीं हुई शिनाख्त

[ad_1]

अमृतसर. पंजाब स्थित अमृतसर के स्वर्ण मंदिर (Golden Temple of Amritsar) में बेअदबी के प्रयास के आरोप में पीट-पीटकर मारे गए अज्ञात व्यक्ति का बुधवार को अमृतसर में अंतिम संस्कार किया गया. पुलिस ने कहा कि सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम होने के बाद अंतिम संस्कार किया गया. हालांकि अंतिम संस्कार से पहले तक आरोपी शख्स की शिनाख्त तक नहीं हो पाई थी. अधिकारियों ने कहा कि यदि मृतक के परिवार के किसी व्यक्ति ने अधिकारियों से संपर्क किया तो संदिग्ध के डीएनए नमूनों को मिलान के लिए संरक्षित कर लिया गया है.  अस्पताल प्रबंधन ने अटॉप्सी करने के लिए पांच सदस्यीय बोर्ड का गठन किया था. आगे की जांच के लिए रिपोर्ट अमृतसर के सरकारी मेडिकल कॉलेज और खरड़ की एक लैब को भेजी जाएगी.

अधिकारियों ने आरोपी की तस्वीर जारी की है. माना जा रहा है कि वह 20 साल का है. सीसीटीव फुटेज्स में भी उसकी हरकत कैद हुई है. शव के लिए अब तक कोई दावेदार सामने नहीं आया था और बायोमीट्रिक तकनीक पुलिस को कोई सुराग देने में विफल रही. पंजाब सरकार ने घटना की जांच के साथ-साथ संदिग्ध की पहचान के लिए एक एसआईटी का गठन किया है, हालांकि अभी तक कुछ भी सामने नहीं आया है.

क्या है अमृतसर का मामला
गौरतलब है कि स्वर्ण मंदिर में 18 दिसंबर को कथित तौर पर बेअदबी के प्रयास के बाद एक व्यक्ति को पीट-पीटकर मार डाला गया था. आरोपी स्वर्ण मंदिर में रेलिंग को पार कर पवित्र स्थान पर पहुंच गया था और वहां पर रखी तलवार को उठा ग्रंथी के पास पहुंचा, जहां पर वह गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ कर रहे थे.

इस घटना से हरकत में आए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के कार्यबल सदस्यों ने उसे पकड़ा. जब उसे एसपीजीसी के कार्यालय ले जाया जा रहा था तब आक्रोशित ‘संगत’ ने उसकी बुरी तरह से पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई.

कपूरथला मामले में अब तक क्या हुआ?
उधर कपूरथला लिंचिंग मामले में पुलिस को अभी तक उस संदिग्ध के शव का पोस्टमार्टम नहीं मिला है. पुलिस ने इस मामले में बेअदबी से इनकार किया था और दावा किया कि युवक चोरी के लिए गुरुद्वारे में घुसा था. इस मामले में भी पुलिस को अभी तक युवक की शिनाख्त में कोई ठोस सुराग हाथ नहीं लगा है. घटना के दिन से ही शव सिविल अस्पताल कपूरथला की मोर्चरी में पड़ा हुआ है.

पुलिस ने मंगलवार को पुष्टि की थी कि लड़के की पहचान का पता लगाने के लिए उसकी उंगलियों के निशान का बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन किया जा रहा है, लेकिन अब तक कोई सुराग नहीं मिला है.

टैग: अमृतसर, लिंचिंग का मामला, पंजाब

.

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published.