पंजाब: बेअदबी की कोशिश में हत्या के एक दिन बाद CM चन्नी ने किया स्वर्ण मंदिर का दौरा, जनता से की खास अपील

[ad_1]

अमृतसर. पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी बेअदबी के कथित प्रयास में एक व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या किये जाने की घटना के एक दिन बाद रविवार को अमृतसर के स्वर्ण मंदिर पहुंचे. पंजाब सरकार ने स्वर्ण मंदिर में बेअदबी के प्रयास की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है. स्वर्ण मंदिर का दौरा करने के बाद सीएम चन्नी ने जनता से सभी धर्म स्थलों का सम्मान करने की अपील की.

उन्होंने वहां मौजूद संवाददाताओं से कहा, “हम राज्य के लोगों से सभी धर्मों के धार्मिक केंद्रों का सम्मान करने और उनकी रक्षा करने, सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने की अपील करते हैं. हो सकता है कि विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही कुछ बुरे तत्व इसकी वजह बन रहे हों. हमारी एजेंसियां ​​जांच कर रही हैं.”

व्यक्ति की पहचान में जुटी पंजाब पुलिस
इस बीच, पंजाब पुलिस स्वर्ण मंदिर में उस व्यक्ति की पहचान कर रही है, जिसने गर्भ गृह में घुसकर बेअदबी करने की कोशिश की थी, जिसके बाद पिटाई से उसकी मौत हो गई थी. पुलिस ने बताया कि यह जानकारी मिली है कि आरोपी घटना को अंजाम देने से पहले कुछ घंटे तक परिसर में ही था. इस संबंध में पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने अमृतसर में जिला उपायुक्त, पुलिस आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक (सीमा रेंज), अमृतसर ग्रामीण के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) और अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की.

स्वर्ण मंदिर में बेअदबी की कोशिश : मारे गए आरोपी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज
अमृतसर के पुलिस आयुक्त सुखचैन सिंह गिल ने रविवार को बताया कि अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ शनिवार रात भारतीय दंड संहिता की धारा-295ए (धार्मिक समूहों में द्वेष उत्पन्न करना), धारा-307 (हत्या की कोशिश) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है. उन्होंने बताया कि स्वर्ण मंदिर में लगे सभी कैमरों की तस्वीर प्राप्त कर ली गई है और आरोपी के बारे में सूचना एकत्र करने के लिए उनकी जांच की जा रही है.

गिल ने बताया कि तस्वीर से पता चलता है कि आरोपी शनिवार पूर्वाह्न 11 बजे स्वर्ण मंदिर में आया और कुछ घंटे तक अकाल तख्त के सामने सोया. उन्होंने बताया कि घटना शाम छह बजे हुई और उसने अपराध को अंजाम देने से पहले कई घंटे स्वर्ण मंदिर में ही बिताए.

आरोपी व्यक्ति ने की थी स्वर्ण मंदिर में बेअदबी की कोशिश
गौरतलब है कि शनिवार को आरोपी स्वर्ण मंदिर में रेलिंग को पार कर पवित्र स्थान पर पहुंच गया था और वहां पर रखी तलवार को उठा ग्रंथी के पास पहुंचा, जहां पर वह गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ कर रहे थे. इस घटना से हरकत में आए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के कार्यबल सदस्यों ने उसे पकड़ा. जब उसे एसपीजीसी के कार्यालय ले जाया जा रहा था तब आक्रोशित ‘संगत’ ने उसकी बुरी तरह से पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई.

‘घटना को अंजाम देने से पहले घंटों परिसर में रहा आरोपी मृतक’
रंधावा ने कहा कि वह पहले ही घटना के बाद एसजीपीसी अध्यक्ष और अकाल तख्त जत्थेदार से बात कर चुके हैं. उन्होंने बताया कि अबतक आरोपी की पहचान नहीं हो सकी है. उप मुख्यमंत्री ने बताया, “आरोपी के पास से मोबाइल फोन, पर्स, पहचान पत्र या आधार कार्ड नहीं मिला है. यह पता चला है कि वह पूर्वाह्न 11 बजे स्वर्ण मंदिर में दाखिल हुआ और घटना को अंजाम देने से पहले घंटों परिसर में रहा.”

(इनपुट भाषा से भी)

टैग: अमृतसर, Charanjit Singh Channi, पंजाब

.

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published.