MPPSC रिजल्ट का रास्ता साफ, शिवराज सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

[ad_1]

जबलपुर. लंबे समय से अपने रिजल्ट का इंतजार कर रहे MPPSC के परीक्षार्थियों के लिए एक अच्छी खबर है. मध्य प्रदेश पीएससी 2019 के मुख्य परीक्षा और 2020 की प्रारंभिक परीक्षा का परिणाम अब जल्द ही घोषित हो सकता है. सरकार ने एमपी पीएससी भर्ती परीक्षा नियम 2015 में किए गए अपने संशोधन को वापस ले लिया है. इसके बाद इन दोनों ही परीक्षाओं का परिणाम (Outcome) जारी हो सकेगा.

जनवरी 2021 में पीएससी परीक्षा से जुड़े 65 परीक्षार्थियों ने जबलपुर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी. याचिका के माध्यम से यह मांग उठाई गई थी कि एमपी पीएससी परीक्षा भर्ती नियम 2015 के तहत सरकार ने एक ऐसा विवादित नियम ला दिया था जिसके बाद आरक्षित वर्ग के मेरिटोरियस छात्रों को अनारक्षित वर्ग में नहीं चुना जा रहा था. इस मामले पर करीब 1 साल तक सुनवाई चली.

कैबिनेट की मंजूरी
पिछली सुनवाई में सरकार ने अपनी अंडरटेकिंग देते हुए कहा था कि आगामी कैबिनेट की बैठक में इस विवादित नियम को खत्म करने के लिए कार्रवाई कर ली जाएगी. कैबिनेट ने 2015 के उस नियम में संशोधन को मंजूरी दे दी है. राज्य सरकार ने आज कोर्ट को इसकी जानकारी दी. सरकार के जवाब के बाद हाईकोर्ट ने इस मामले की अगली सुनवाई जनवरी माह में नियत की है.

ये भी पढ़ें- MP Panchayat Chunav: चुनाव होंगे पर जारी नहीं होंगे परिणाम, निर्वाचन आयोग का नया आदेश

नियम पर ऐतराज
2015 के इस विवादित नियम के कारण आरक्षित वर्ग के उम्मीदवार अनारक्षित वर्ग में नहीं चुने जा रहे थे. इस विवादित नियम के कारण PSC 2019 की मुख्य परीक्षा और 2020 की प्रारंभिक परीक्षाओं के रिजल्ट अब तक घोषित नहीं हो पाए हैं. सरकार के इस विवादित नियम को वापस ले लेने के बाद यह उम्मीद है कि अगली सुनवाई में जब सरकार की ओर से अदालत के समक्ष जवाब पेश किया जाएगा तो इन दोनों ही परीक्षा परिणामों का रास्ता भी साफ होगा.

806 पदों के लिए परीक्षा
पीएससी 2019 की मुख्य परीक्षा में कुल 571 और 2020 की प्रारंभिक परीक्षा में कुल 235 पदों पर भर्ती होना है. इन पदों पर भर्ती के लिए हुई परीक्षा में हजारों परीक्षार्थी शामिल हुए थे.

आपके शहर से (जबलपुर)

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

टैग: जबलपुर उच्च न्यायालय, एमपी पीएससी, एमपीपीएससी समाचार अधिसूचना, शिवराज सरकार

.

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published.