बस कुछ कूड़ा ही उठता है शहर में

0
340

भानू प्रकाश नेगी

स्वच्छ दून, सुन्दर दून का नारा सुनने में बहुत अच्छा लगता है । लेकिन उचित कूडा प्रबधंन न होने के चलते ये शहर की सबसे बड़ी समस्या बनती जा रही है। एक अध्ययन के मुताबिक दून घाटी में एक दिन में चार सौ पच्चीस मीट्रिक टन यानि चार हजार दो सौ पचास क्विन्टल कूडा निकलता है। जबकि शीशमबाडा में बने ट्रंचिंग ग्राउंड में दो सौ पचास क्विन्टल कूडे का निस्तारण हो पा रहा है। बाकी कूड़े का निस्तारण न होने के चलते यहां कूडे के पहाड़ बनते जा रहे हैं। इस चौंकाने वाली घटना का खुलासा वन विभाग के पूर्व मुखिया डॉ आर बी एस रावत ने सुप्रीम कोर्ट के लिए किये गये एक महत्वपूर्ण अध्ययन के आधार पर किया है। आपको बता दें कि कूडे के अस्थाई ग्राउंड कारगी चौक के पास बनाये जाने से यहां  लोगों के लिए बडी समस्या बन गई है। साथ ही पास  में स्कूल होने के कारण इस गंदगी से बच्चों को भी खतरनाक रोग होने का डर बना हुआ है

Spread the love

LEAVE A REPLY