मौनी अमावस्या पर महासंयोग…

0
669

माघ के महीने आने वाली अमावस्या को मौनी अमावस्या या माघ अमावस्या के नाम से जाना जाता है और मौनी अमावस्या का शास्त्रों में बड़ा महत्व बताया गया है। और बता दें इस बार मौनी अमावस्या 11 फरवरी को है।

इस बार सात साल बाद गुरुवार के दिन मौनी अमावस्या पड़ रही है। और  अमावस्या तिथि के स्वामी पितृ माने गए हैं। इसलिए पितों की शांति के लिए इस दिन तर्पण और श्राद्ध भी किया जाता है। वहीं पितृ दोष और कालसर्प दोष से मुक्ति पाने के लिए के लिए इस दिन उपवास भी रखा जाता है। और इस साल ये पर्व ध्वज, गज केसरी योग में 11 फरवरी यानि की  गुरुवार को पड़ रहा है।

माघ अमावस्या 2021 की तिथि और शुभ मुहूर्त-

फरवरी 11, 2021 को 01:10:48 से अमावस्या आरम्भ हो रहा है।
और फरवरी 12, 2021 को 00:37:12 पर अमावस्या समाप्त हो रहा है।

मौनी अमावस्या या माघ अमावस्या का महत्व

धर्म ग्रन्थों में माघ महीने को बहुत ही पुण्य व फलदायी माना गया है। इसलिए मौनी अमावस्या पर किए गए व्रत और दान से हर तरह के पाप खत्म हो जाते हैं।

साथ ही धर्म ग्रंथों के जानकारों का कहना है कि मौनी अमावस्या पर व्रत और श्राद्ध करने से पितों की आत्मा को शांति मिलती है। और मनोकामनाएं भी पूर्ण होती हैं। इस अमावस्या पर्व पर पितृों की आत्मा की शांति के लिए स्नान-दान और पूजा-पाठ के साथ ही उपवास रखने से न केवल पितृगण ही नहीं बल्कि ब्रह्मा, इंद्र, सूर्य, अग्नि, वायु और ऋषि समेत भूत प्राणी भी तृप्त होकर प्रसन्न होते हैं। इस अमावस्या पर ग्रहों की स्थिति का असर अगले एक महीने तक रहता है। जिससे देश में होने वाली शुभ-अशुभ घटनाओं के साथ मौसम का अनुमान भी लगाया जा सकता है।

 

Spread the love

LEAVE A REPLY