‘मन की बात’ में पीएम मोदी की अहम बातें

0
310

रविवार को प्रधानमंत्री मोदी ने रेडियो पर ‘मन की बात’ के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने देशवासियों को ऐसे समय पर संबोधित किया जहां एक ओर कोरोना संक्रमण के मामले थमने का नाम नही ले रहे है और दूसरी ओर कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि नए कृषि कानूनों से किसानों के लिए नए रास्ते खुले है। काफी विचार विमर्श के बाद भारतीय संसद ने इन्हें पारित किया है। साथ ही उन्होंने कनाडा से मां अन्नापूर्णा की मूर्ति वापस लाने की खुशखबरी को देशवासियों के साझा किया। उन्होंने देशवासियों को प्रकाश पर्व की भी बधाई दी। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मजबूती से जारी रखने और सर्दियों में बच्चों और बुजुर्गों का खास ख्याल रखने की अपील की।

क्या रही प्रधानमंत्री के संबोधन की मुख्य बातें-

नए कानून से किसानों को नए अधिकार मिलें है

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि संसद ने हाल ही में कठोर मंथन के बाद कृषि सुधार कानून पारित किया है। उन्होंने कहा कि इन सुधारों ने न केवल किसानों की दिक्कतें कम हुई हैं बल्कि इस कानून ने उन्हें नए अधिकार और अवसर भी दिए है। उन्होंने कहा कि बीते दिनों हुए कृषि सुधारों ने किसानों के लिए नई संभावनाओं के द्वार भी खोले है। बरसों से किसानों की जो मांग थी, जिन मांगों को पूरा करने के लिए किसी न किसी समय में हर राजनीतिक दल ने उनसे वायदा किया था, वो मांग पूरी हुई है। उन्होंने कहा कि इन सुधारों से न सिर्फ किसानों के अनेक बन्धन समाप्त हुए है, बल्कि उन्हें नए अधिकार भी मिले हैं, नए अवसर भी मिले है।

वापस लाई जा रही है देवी अन्नपूर्णा की मूर्ती

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हर भारतीय को यह जानकर गर्व महसूस होगा कि देवी अन्नपूर्णा की एक प्राचीन मूर्ति को कनाडा से भारत वापस लाया जा रहा है। लगभग 100 साल पहले 1913 में, यह मूर्ति वाराणसी के एक मंदिर से चुराई गई थी और देश के बाहर तस्करी की गई थी। माता अन्नपूर्णा की प्रतिमा की वापसी के साथ एक संयोग यह भी जुड़ा है कि कुछ दिन पूर्व ही World Heritage Week मनाया गया है। World Heritage Week संस्कृति प्रेमियों के लिए, पुराने समय में वापस जाने, उनके इतिहास के अहम पड़ावों को पता लगाने का एक शानदार अवसर प्रदान करता है।

डॉकटर सलीम अली को किया याद

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस महीने 12 नवंबर से डॉक्टर सलीम अली जी का 125वां जयंती समारोह शुरू हुआ है। डॉक्टर सलीम ने पक्षियों की दुनिया में Bird Watching को लेकर उल्लेखनीय कार्य किए है। दुनिया में Bird Watching को, भारत के प्रति आकर्षित भी किया है।

 

भारत और उसकी संस्कृति, शास्त्र का बताया महत्व

प्रधानमंत्री मोदी ने भारत की संस्कृति को लेकर कहा कि भारत की संस्कृति और शास्त्र, दोनों हमेशा से ही पूरी दुनिया के लिए आकर्षण के केंद्र रहे है। कई लोग तो इनकी खोज में भारत आए और हमेशा के लिए यहीं के होकर रह गए, तो कई लोग वापस अपने देश जाकर इस संस्कृति के संवाहक बन गए।

गुरुनानक देव जी की जयंती पर किए विचार साझा

प्रधानमंत्री ने कहा कि 30 नवंबर को श्री गुरु नानक देव जी का 551वां प्रकाश पर्व है। पूरी दुनिया में गुरु नानक देव जी का प्रभाव स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। Vancouver से Wellington तक, Singapore से South Africa तक उनके संदेश हर तरफ सुनाई देते हैं। गुरुग्रन्थ साहिब में कहा गया है- ‘सेवक को सेवा बन आई’, यानी सेवक का काम सेवा करना है। बीते कुछ वर्षों में कई अहम पड़ाव आए और एक सेवक के तौर पर हमें बहुत कुछ करने का अवसर मिला।

उन्होंने कहा कि क्या आप जानते है कि कच्छ में एक गुरुद्वारा है, लखपत गुरुद्वारा साहिब। 2001 के भूकंप से कच्छ के लखपत गुरुद्वारा साहिब को भी नुकसान पहुंचा था। यह गुरु साहिब की कृपा ही थी कि मैं इसका जीर्णोद्धार सुनिश्चित कर पाया।

स्टूडेंटस और संस्थानों को लेकर विचार किया साझा

प्रधानमंत्री ने मन की बात के दौरान कहा कि पिछले दिनों, मुझे, देश-भर की कई Universities के Students के साथ संवाद का, उनकी Education Journey के महत्वपूर्ण Events में शामिल होने का, अवसर प्राप्त हुआ है। देश के युवाओं के बीच होना बेहद तरो-ताजा करने वाला और उर्जा से भरने वाला होता है।

उन्होंने आगे कहा कि कोरोना से पहले के दिनों में जब मैं रूबरू किसी Institution की Event में जाता था, तो यह आग्रह भी करता था कि आस-पास के स्कूलों से गरीब बच्चों को भी उसी समारोह में आमंत्रित किया जाए। वो बच्चे उस समारोह में मेरे Special Guest बनकर आते रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्कूल-कॉलेज से निकलने के बाद दो चीजें कभी खत्म नहीं होती है- एक आपकी शिक्षा का प्रभाव और दूसरा आपका अपने स्कूल, कॉलेज से लगाव। मेरा संस्थानों से आग्रह है कि Alumni engagement के नए और innovative तरीकों पर काम करें।

 

 

 

 

 

 

Spread the love

LEAVE A REPLY