NEP-2020 लागू करने के लिए तैयारियां हुई तेज, जानिए क्या हैं इसकी खास बातें…

0
223

केंद्रीय कैबिनेट की ओर से राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को मंजूरी दी जा चुकी है इस नई शिक्षा नीति में स्कूल शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक कई बड़े बदलाव किए गए हैं ऐसे में देश के साथ ही प्रदेश के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों में नई शिक्षा नीति को लागू करने के लिए तैयारियां जोरों पर चल रही हैं।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 की कुछ  खास बातें-

  • राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के इस फॉर्मेट के तहत स्कूल के पहले 5 साल में प्री प्राइमरी स्कूल के 3 साल और कक्षा एक और कक्षा दो समेत फाउंडेशन स्टेज शामिल होंगे. फिर अगले 3 साल को कक्षा 3 से 5 की तैयारी के चरण में विभाजित किया गया है.
  • कक्षा 6 से कक्षा 8 तक 3 साल मध्य चरण के होंगे और माध्यमिक अवस्था के 4 वर्ष यानी कि कक्षा 9 से 12 तक निर्धारित किए गए हैं. इसके तहत स्कूल में छात्र-छात्राओं को कला वाणिज्य, विज्ञान का कोई कठोर पालन नहीं करना होगा. छात्र-छात्राओं के पास यह स्वतंत्रता होगी कि वह अपनी इच्छा अनुसार कभी भी कोई भी पाठ्यक्रम चुन सकते हैं.
  • इसके साथ ही नई शिक्षा नीति की एक और सबसे बड़ी खासियत यह है कि इस नीति के तहत छात्रों को अब स्कूल लेवल पर ही व्यवसायिक शिक्षा भी दी जाएगी. जिससे किसी कारणवश यदि छात्र आगे की पढ़ाई पूरी नहीं कर पाता है तो छात्र स्कूल में मिले व्यवसायिक ज्ञान के आधार पर अपना खुद का काम या किसी नौकरी की तलाश कर सकेगा.
  • नई शिक्षा नीति के तहत कक्षा पांचवीं तक मातृभाषा शिक्षा का एक माध्यम बन सकेगा.
  • नई शिक्षा नीति के अनुसार विश्वविद्यालय और उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के लिए आम प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाएगी. यह परीक्षा एनडीए यानी नेशनल टेस्टिंग एजेंसी आयोजित करेगा.
  • नई शिक्षा नीति के तहत सरकार ने साल 2030 तक स्कूली शिक्षा में 100% ग्रॉस एनरोलमेंट रेश्यो (जीईआर) के साथ माध्यमिक स्तर तक ग्रेजुएशन फॉर ऑल का लक्ष्य रखा है.
  • नई शिक्षा नीति के तहत सामाजिक और आर्थिक नजरिया से वंचित समूहों (SEDG) की शिक्षा पर विशेष जोर दिया जाएगा. जिससे देश की साक्षरता दर में इजाफा हो सकेगा।
Spread the love

LEAVE A REPLY