पहले चीनी कम्पनियों के ठेकों पर वार और अब चीन के 59 एप बैन, इन्डिया की चाइना पर स्ट्राइक….

0
70

पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में खूनी झड़प करने वाले चीन पर मोदी सरकर कड़ा एक्शन लिया है। केन्द्र सरकार ने 59 चाइनीज एप पर बैन लगाने का फैसला लिया है। और बता दें कि बैन किये गए एप में टिक -टॉक भी शामिल है।  ये पहला मौका नही हैं जब भारत ने चीन को झटका दिया है इससे पहले भी लाखों करोड़ो के  टेन्डर्स भी निरस्त किये जा चुके हैं।

गलवान में हमले के बाद देश में लगातार चीन के सामान के बहिष्कार की मुहिम तेज होती जा रही है फिल्म स्टार से लेकर नेता तक चीन के सामान को इस्तेमाल ना करने की अपील कर रहे है हिंदुस्तान ने चीन के खिलाफ आर्थिक युद्ध छेड़ दिया है।

जानिए केंद्र और राज्य की सरकारें चीन को कहां.कहां और किस मोर्चे पर सबक सिखाया है।

1-MTNL और BSNL 4जी नेटवर्क के लिए चीनी कलपुर्जे का इस्तेमाल करने का निर्णय लिया है।

2-रेलवे ने 471 करोड़ रुपये सिगनलिंग प्रोजेक्ट रद्द कर दिया है

3- MMRDA ने मोनोरेल से जुड़ी चीन की 2 कम्पनियों का टेंडर रद्द कर दिया है

4-MMRDA ने 10 मोनोरेल रैक्स बनाने की बोली भी रद्द कर दी।

5-मेरठ रैपिड रेल का टेंडर चीनी कम्पनियों का टेंडर जो कि चीनी कम्पनी के साथ था उसका टेंडर भी रद्द किया गया है।

6-महाराष्ट्र सरकार ने तलेगांव में ग्रेट वॉल का टेंडर रद्द कर दिया।

7-महारष्ट्र सरकरा ने पीएमआई इलेक्ट्रो मोबिलिटी और हेगंल इंग का भी टेंडर रद्द।

8-हरियाणा सरकार ने चीनी कम्पनियों का 780 करोड़ रुपए का ऑडर रद्द।

9-हरियाणा सरकार ने हिसार और यमुनानगर में चीनी कम्पनियों के टेंडर रद्द।

10- यूपी सरकार ने तय किया है कि एनर्जी सेक्टर में चीनी उपकरणों का इस्तेमाल होगा।

11-यूपी सरकार द्वारा सूबे की चीनी बिजली मिटर का उपयोग नही किया जाएगा।

12-दिल्ली होटल एशोसिएशन ने तय किया है कि होटलों में चीनी नागरिकों को कमरा भी किराए पर नही दिया जाएगा। साथ ही बोधगया होटल एसोसिएशन ने भी चीनी पर्यटकों का बहिष्कार किया है।

Spread the love

LEAVE A REPLY