NSG अब इस तकनीक का करेगी इस्तेमाल, आतंकियों को ढूंढना होगा आसान

0
704

देश की सबसे बड़ी सुरक्षा एजेंसी एनएसजी में अब ऐसे आधुनिक इक्यूपमेंट इस्तेमाल किए जाएंगे कि कहीं भी छुपे हुए आतंकियो को ढूंढना चुटकी बजाने जितना आसान हो जाएगा. दुनिया में पहली बार कोई सुरक्षा एजेंसी इस तरह की तकनीक का इस्तेमाल करने जा रही है.

दरअसल गुरुग्राम के मानेसर में एनएसजी में चल रहे दो दिवसीय के नाइन सेमिनार में एक ऐसी ही आधुनिक तकनीक का डेमो दिखाया गया. इस तकनीक के जरिए एक वायरलैस कैमरे को एक ट्रेन डॉग की आंखों पर चश्में के द्वारा बांध दिया जाता है और जो जो वो डॉग देखेगा वही उस कैमरे की नजर से देखा जा सकेगा.

इस कैमरे की मदद से किसी भी आतंकी गतिविधि में सर्च ऑपरेशन के दौरान बहुत मदद मिलने वाली है. इतना ही नहीं ये वेल ट्रेन्ड डॉग अपने साथ ग्रेनेड या फिर जैमर लेकर आतंकी की चाल को नाकाम कर सकता है. इस कैमरे की रेंज करीब 500 मीटर तक होती है और एक रेडियो फ्रीक्वेंसी के द्वारा इस डॉगी का हैंडलर इसे डायरेक्शन देता रहता है.

फौज में या पुलिस में डॉग्स की भूमिका कितनी अहम होती है और उसको किस तरह से बेहतर किया जा सकता है इसके लिए गुरुग्राम के मानेसर में एनएसजी कैंपस में दो दिवसीय के नाइन सेमिनार का आयोजन किया जा रहा है जिसका उद्घाटन केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री किरण रिजिजू ने किया.

किरन रिजिजू ने कहा कि देश और दुनिया के जो हालात है उसको देखते हुए केवल इंसान ही नहीं बल्कि डॉग्स को भी समाज में कैसे समान स्थान दिया जाए इसी को लेकर इस सेमिनार का आयोजन किया गया.

Spread the love

LEAVE A REPLY