जुबानी जंग ने लिया कड़ा रुप

0
285

सुशांत सिंह राजपुत को लेकर घमासान पक्ष-विपक्ष का माहोल बना है। फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत द्वारा मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से किए जाने के बाद बयानबाजी थमने का नाम नहीं ले रही है। कंगना सुशांत की कथित आत्महत्या के बाद से ही महाराष्ट्र पुलिस और राज्य की उद्धव ठाकरे पर लगातार हमले कर रही है। इस बीच अब कंगना रनौत ने इस विवाद में असहिष्णुता का मुद्दा उठा दिया है। उन्होंने उन लोगों की चुप्पी पर सवाल खड़े किए हैं जो अब इस विवाद पर चुप्पी साधे हैं।

संजय राउत ने बातचीत के दौरान कंगना को गाली दे दी और अभद्र भाषा का प्रयोग किया। राउत के इस बयान पर कंगना रनौत ने भी रिप्लाई करने में देरी नहीं लगाई और ट्वीट कर कहा, ‘2008 में मूवी माफिया ने मुझे एक साइको घोषित कर दिया था। इतना ही नहीं 2016 में उन्होंने मुझे एक चुड़ैल कहा और 2020 में महाराष्ट्र के मंत्री ने मुझे हरामखोर लड़की का खिताब दे दिया। इन सभी लोगों ने मेरे साथ ऐसा इसलिए किया क्योंकि मैंने कहा था कि सुशांत की हत्या के बाद मैं मुंबई में असुरक्षित महसूस करती हूं। इस वक्त असहिष्णुता डिबेट के योद्धा कहां है?’

कंगना ने लंबे समय से बॉलीवुड के एक तबके को निशाने पर लेती हैं। वे लगातार उन लोगों पर सवाल खड़े करती हैं जो सिर्फ कुछ ही मुद्दों पर खुलकर बोलना पसंद करते हैं। उन्होंने इससे पहले भी स्वरा भास्कर और अनुराग कश्यप जैसे सेलेब्स पर अहम मुद्दों पर चुप रहने का आरोप लगाया है। ऐसे में अब जब कंगना के पोस्टर पर चप्पल मारी गई है, जब उन्हें गाली दी गई है, ऐसे में क्या कोई इसके खिलाफ आवाज उठाता है या नहीं, ये देखने वाली बात होगी।

Spread the love

LEAVE A REPLY